ये है भारत के कुछ ऐसे विज्ञापन जिसे देखकर आपकी हंसी नही रुक पाएगी . Rubbish ad's

इन्हें देखकर अगर आपको हंसी नही आई तो फिर नाम बदल देना . हमारा नहीं अपना !

ऐसे विज्ञापन आपको कभी दुकानों पर, कभी बस में तो कभी-कभी सर्वजन शौचालय में भी दिख जाते है , जिन्हें पढने के बाद आपकी हंसी के मारे आपके आँखों से आंसू निकल आते है और आई भी क्यों न ये विज्ञापन बनाए ही इसलिए जाते है , ताकि आपका ध्यान उसकी तरफ पड़े . लेकिन इन्हें देखने के बाद हमारे दिमाग में एक ही ख्याल आता है की ये इनकी क्रिएटिविटी है या बेवकूफी .

अब चाहे क्रिएटिविटी हो या बेवकूफी लेकिन इन्हें देखने के बाद हमारे चेहरों पर हंसी की मुस्कान ज़रूर आ जाती है . चलिए देखते है ऐसे ही कुछ विज्ञापन .

अब पढाई छोड़कर चोकेदारी करिए अब तो उसी में फायदा है

इसे बोलते है क्रिएटिविटी , अरे भाई जागरूकता भी ज़रूरी है

अरे जनाब साफ़-साफ़ कहिये की आप किसी को भी कभी भी उधार नहीं देंगे .

“आखिर आप कहना क्या चाहते हो “ ये लाइन इस विज्ञापन के लिए सही है

इसे देखकर लगता है की हमारा ये विज्ञापन बनाने वाले को गाय से कुछ ज्यादा ही लगाव है . लेकिन ऐसे दूध कौन पिलाता है भाई !

आरे वाह ! ये तो फ़िल्मी चाय है .

भाई साहब ये विज्ञापन भी इनके नाम की तरह ही “घातक” है

अरे यार ! हम मान गए की आप अच्छा ही पढ़ाते होंगे इसमें “ जिन्दा जालाने वाली कौन सी बात है “

क्या इस फैमिली का नाम हम सही पढ़ रहे है ?

Funny ads indian funny funny photo funny poster's indian poster indian shop funny

loading...